Valmiki Ramayana(श्रीमद्वाल्मीकीय रामायण:)

Srimad Valmiki Ramayana is an epic poem of India. It is a very beautiful long poem in the Sanskrit language by Valmiki and Valmik is celebrated as the harbinger-poet in Sanskrit literature.

Here is collection of Some popular Slokas from the great poem Ramayana:

Image of Valmiki

न सुहृद्यो विपन्नार्था दिनमभ्युपपद्यते । स बन्धुर्योअपनीतेषु सहाय्यायोपकल्पते ॥

भावार्थ :

सुह्रद् वही है जो विपत्तिग्रस्त दीन मित्र का साथ दे और सच्चा बन्धु वही है जो अपने कुमार्गगामी बन्धु का भी सहायता करे ।

आढ् यतो वापि दरिद्रो वा दुःखित सुखितोऽपिवा । निर्दोषश्च सदोषश्च व्यस्यः परमा गतिः ॥

भावार्थ :

चाहे धनी हो या निर्धन, दुःखी हो या सुखी, निर्दोष हो या सदोष - मित्र ही मनुष्य का सबसे बड़ा सहारा होता है ।

वसेत्सह सपत्नेन क्रुद्धेनाशुविषेण च । न तू मित्रप्रवादेन संवसेच्छत्रु सेविना ॥

भावार्थ :

शत्रु और क्रुद्ध महाविषधर सर्प के साथ भले ही रहें, पर ऐसे मनुष्य के साथ कभी न रहे जो ऊपर से तो मित्र कहलाता है, लेकिन भीतर-भीतर शत्रु का हितसाधक हो ।

लोक-नीति -न चातिप्रणयः कार्यः कर्त्तव्योप्रणयश्च ते । उभयं हि महान् दोसस्तस्मादन्तरदृग्भव ॥

भावार्थ :

मृत्यु-पूर्व बालि ने अपने पुत्र अंगद को यह अन्तिम उपदेश दिया था - तुम किसी से अधिक प्रेम या अधिक वैर न करना, क्योंकि दोनों ही अत्यन्त अनिष्टकारक होते हैं, सदा मध्यम मार्ग का ही अवलम्बन करना ।

सर्वथा सुकरं मित्रं दुष्करं प्रतिपालनम् ॥

भावार्थ :

मित्रता करना सहज है लेकिन उसको निभाना कठिन है ।

मित्रता-उपकारफलं मित्रमपकारोऽरिलक्षणम् ॥

भावार्थ :

उपकार करना मित्रता का लक्षण है और अपकार करना शत्रुता का ।

ये शोकमनुवर्त्तन्ते न तेषां विद्यते सुखम् ॥

भावार्थ :

शोकग्रस्त मनुष्य को कभी सुख नहीं मिलता ।

शोकः शौर्यपकर्षणः ॥

भावार्थ :

शोक मनुष्य के शौर्य को नष्ट कर देता है ।

सुख-दुर्लभं हि सदा सुखम् ।

भावार्थ :

सुख सदा नहीं बना रहता है ।

न सुखाल्लभ्यते सुखम् ॥

भावार्थ :

सुख से सुख की वृद्धि नहीं होती ।

मृदुर्हि परिभूयते ॥

भावार्थ :

मृदु पुरुष का अनादर होता है ।

सर्वे चण्डस्य विभ्यति ॥

भावार्थ :

क्रोधी पुरुष से सभी डरते हैं ।

स्वभावो दुरतिक्रमः ॥

भावार्थ :

स्वभाव का अतिक्रमण कठिन है ।